ऑफबीट एमबीए स्पेशलाइजेशंस और उन्हें कराने वाले बी– स्कूलों के करिअर प्रोस्पेक्ट्स

profile Catgories MBA
Pro-banner

बिजनेस वर्ल्ड में करिअर बनाने की इच्छा रखने वाले छात्रों की अक्सर पसंद होती है मार्केटिंग, फाइनैंस, इंटरनेशनल बिजनेस, ह्यूमन रिसोरस और आंत्रप्रेन्योरशिप में एमबीए करना l लेकिन, खुशहाल करिअर के लिए कई ऑफबीट स्पेशलाइजेशन भी हैं जिन्हें किया जा सकता है l कई नए विकल्पों में से आप चुनाव कर सकते हैं और सबसे अच्छी बात यह है कि इसे करने के बाद भी आप एक सफल करिअर बना सकते हैंl

आइए इन ऑफबीट कोर्सेज में से कुछ के बारे में विस्तार से जानते हैं l

1. हॉस्पिटैलिटी/ होटल मैनेजमेंट में एमबीए–  हॉस्पिटैलिटी सेक्टर उभरते हुए सेक्टर्स में से एक है और यह होटल और खाने से कहीं अधिक होता है l इसमें हॉस्पिटैलिटी इंडस्ट्री के सभी महत्वपूर्ण पहलू जैसे रेस्त्रां, इवेंट मैनेजमेंट, थीम बेस्ड पार्क्स, क्रूजेज से लेकर हॉस्पिटैलिटी इंडस्ट्री के दायरे में आने वाले कई अन्य क्षेत्र भी शामिल हैं l

हॉस्पिटैलिटी मैनेजमेंट प्रोग्राम में एमबीए को उच्च कौशल और स्किल्ड प्रोफेशनल को तैयार करने के लिए डिजाइन किया गया है जो दुनिया भर में तेजी से बढ़ते डायनेमिक होटल और टूरिज्म इंडस्ट्री में काम करने में सक्षम होते हैं l चेन बेस्ड रेस्त्रां, होटलों, स्पा, हॉलिडे रिसॉर्ट्स, जो फूड और होटल इंडस्ट्री के हिस्से के तौर पर हर जगह विकास कर रहा है, की बढ़ती संख्या के साथ करिअर की अपार संभावनाएं उपलब्ध हैंl   

हॉस्पिटैलिटी मैनेजमेंट में दो वर्ष का फुल टाइम एमबीए कराने वाले कुछ कॉलेज हैं– इंटरनेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ बिजनेस मैनेजमेंट (आईआईबीएम– नई दिल्ली), जेम्स बिजनेस स्कूल (बैंगलोर), एमिटी स्कूल ऑफ हॉस्पिटैलिटी, इंस्टीट्यूट ऑफ होटल मैनेजमेंट (आईएचएम– नई दिल्ली)l यूनिवर्सिटी ऑफ कैलिफोर्निया, लॉस एंजिल्स और वेंडरबिल्ट यूनिवर्सिटी जैसे इंस्टीट्यूट भी हॉस्पिटैलिटी मैनेजमेंट में एमबीए प्रोग्राम्स कराते हैं l

2. रीटेल मैनेजमेंट – बीते कुछ वर्षों में भारतीय रीटेल सेक्टर में काफी उछाल देखा गया है l घरेलू बिजनेस प्रमुखों जैसे फ्यूचर ग्रुप, रिलायंस ग्रुप और टाटा ग्रुप एवं दूसरे समूहों ने देशभर में रीटेल चेन्स विकसित किया है l स्टोर लेआउट, डिजाइन और खरीददारों के मनोविज्ञान पर काफी ध्यान दिया जाता है l दूसरी तरफ, कैटेगरी मैनेजमेंट, नेगोशिएशन विद मैन्युफैक्चर्रस और इन्वेंटरी मैनेजमेंट जैसे पहलू भी हैं जो रीटेल मैनेजमेंट बिजनेस का  क्रक्स बनाते हैं l   

इसलिए, रीटेल इंडस्ट्री में करिअर बनाने एवं इस सेक्टर की चुनौतियों का सामना करने के लिए छात्रों को तैयार करने के क्रम में केजे सोमैया इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट स्टडीज एंड रिसर्च (एसआईएएसआर), मुंबई और डब्ल्यूई स्कूल, वेलिंगकर इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट डेवलपमेंट एंड रिसर्च मैनेजमेंट – रीटेल मैनेजमेंट/ रीटेल मैनेजमेंट में दो वर्ष का फुल– टाइम पोस्ट ग्रैजुएट डिप्लोमा कराते हैंl  

द यूनिवर्सिटी ऑफ बेडफोर्डशायर, यूनिवर्सिटी ऑफ साउथ वेल्स, न्यूयार्क का सायराकॉज यूनिवर्सिटी और फ्लोरिडा इंटरनेशनल यूनिवर्सिटी भी स्पेशलाइज्ड लग्जरी मैनेजमेंट प्रोग्राम कराते हैंl   

3. मीडिया एंड कम्युनिकेशंस – भारतीय मीडिया और कम्युनिकेशन इंडस्ट्री बहुत तेजी से विकास कर रहे इंडस्ट्री में से एक है l इंडस्ट्री की मांग और जरूरतों को पूरा करने के क्रम में आपको इंडस्ट्री के रणनीतिक टूल्स जैसे एडवर्टाइजिंग, पब्लिक रिलेशंस, इमेज मैनेजमेंट आदि से अच्छी तरह वाकिफ होना चाहिए l  

वैसे इंस्टीट्यूट जो मीडिया एंड कम्युनिकेशन मैनेजमेंट में स्पेशलाइजेशन कराते हैं, वे हैं– मुद्रा इंस्टीट्यूट ऑफ कम्युनिकेशन, अहमदाबाद (एमआईसीए)– पोस्ट ग्रैजुएट डिप्लोमा इन कम्युनिकेशंस, सिंबायोसिस इंस्टीट्यूट ऑफ मीडिया एंड कम्युनिकेशन (एसआईएमसी), पुणे– एमबीए इन कम्युनिकेशन मैनेजमेंट एंड पोस्ट ग्रैजुएट सर्टिफिकेट प्रोग्राम इन एडवर्टाइजिंग मैनेजमेंट एंड पब्लिक रिलेशंस (पीजीसीपीएएमपीआर– ऑनलाइन) l

आईपीएजी बिजनेस स्कूल, फ्रांस– एमबीए इन न्यू इंफॉर्मेशन एंड कम्युनिकेशन टेक्नोलॉजिज, काईस्ट कॉलेज ऑफ बिजनेस– एमबीए इंफॉर्मेशन एंड मीडिया और मेट्रोपोलिटन कॉलेज ऑफ न्यूयॉर्क– एमबीए इन मीडिया मैनेजमेंट जैसे अन्य इंस्टीट्यूट भी ऐसे ही विषयों में कोर्स कराते हैंl

4. लग्जरी मैनेजमेंट-लग्जरी मैनेजमेंट बी– स्कूलों के कोर्स मॉड्यूल में शामिल किया जाने वाला नवीनतम प्रोग्राम हैl लग्जरी मैनेजमेंट में मास्टर्स कोर्स को खासतौर पर उन छात्रों के लिए डिजाइन किया गया है जो लग्जरी सेक्टर में काम करना चाहते हैंl लग्जरी कस्टमर्स और इलीट क्लास की मांगों को पूरा करने के लिए यह प्रोग्राम आपको फ्रैग्रेंस एंड कॉस्मेटिक्स और वाइन एंड स्पिरिट्स जैसे क्षेत्रों में स्पेशलाइजेशन कराता हैl

एसपीजैन इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट एंड रिसर्च (एसपीजेआईएमआर)– मास्टर इन ग्लोबल लग्जरी मैनेजमेंट, इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट (आईआईएम– अहमदाबाद)– लग्जरी एंड लाइफस्टाइल ब्रांड मैनेजमेंट, l5 माह का, लग्जरी कनेक्ट बिजनेस स्कूल (एलसीबीएस, गुड़गांव)– पोस्ट ग्रैजुएट डिप्लोमा इन लग्जरी ब्रांड मैनेजमेंटl

इंटरनेशनल लग्जरी एमबीए प्रोग्राम्स में शामिल है– एसडीए बोक्कोनी (इटली)– मास्टर्स इन फैशन, एक्सपीरियंस एंड डिजाइन मैनेजमेंट, ईएसएसईसी बिजनेस स्कूल (फ्रांस)– लग्जरी ब्रांड मैनेजमेंट एमबीए प्रोग्राम, हार्वर्ड बिजनेस स्कूल (कैंब्रिज, एमए)– लग्जरी ब्रांड मैनेजमेंटl  

5. फैशन एंड अपेरल -  फैशन किसी के मन का आइना होता है और चूंकि व्यवहार में सबसे प्रचलित स्टाइल्स टेक्सटाइल डिजाइनरों के नवीनतम रचनाओं को प्रभावित करता है, इसलिए इस बिजनेस के लिए भी एक मैनेजर की जरूरत होती है l तेजी से बढ़ती इकॉनमी के साथ फैशन भी तेज गति से आगे बढ़ रहा है l आज जो भी है वो निश्चित रूप से कल बेकार हो जाएगा l प्रमुख इंटरनेशनल ब्रांडों के आने, ई– कॉमर्स के विकास और कस्टरमर्स की अत्यधिक मांग ने स्वतंत्र एमबीए स्पेशलाइजेशन यानि फैशन मैनेजमेंट के इजाद को प्रेरित किया है l फैशन एंड अपेरल्स में एमबीए आपको प्रोडक्ट  के बारे में उसके विकास, प्लानिंग, खरीद से लेकर बातचीत आदि के बारे में जानकारी देगा l यह सीनियर मैनेजेरियल रोल्स के लिए आवेदन करने वाले छात्रों के साथ– साथ इंडस्ट्री में स्पेशलिस्ट बनाने में भी मदद करेगाl  
एमिटी इंस्टीट्यूट ऑफ फैशन टेक्नोलॉजी (नोएडा)– फैशन मैनेजमेंट/ फैशन डिजाइन मैनेजमेंट में एमबीए, आईटीएम ग्रुप ऑफ इंस्टीट्यूशंस (इंस्टीट्यूट ऑफ फैशन, डिजाइन एंड टेक्नोलॉजी– पॉन्डिचेरी) –एडवांस्ड डिप्लोमा इन फैशन डिजाइन/ एडवांस्ड डिप्लोमा इन फैशन मार्केटिंग और नित्रा टेक्निकल कैंपस (लखनउ) भी फैशन रीटेल मैनेजमेंट में पीजीडीएम प्रोग्राम कराता है l

इंटनेशनल कॉलेज भी इसी प्रकार के स्पेशलाइजेशन कराते हैं जैसे एलआईएम कॉलेज, न्यूयॉर्क– एमबीए इन फैशन मैनेजमेंट एंड एंटरप्रेन्योरशिप, इंटरनेशनल फैशन एकेडमी (आईएफए– पेरिस)– एमबीए इन फैशन बिजनेस, आईपीएजी बिजनेस स्कूल (फ्रांस)– एमबीए इन फैशनल एंड आर्ट मैनेजमेंट l

दुनिया भर के बिजनेस स्कूलों द्वारा कराए जाने वाले कोर्सेज और स्पेशलाइजेशंस की कोई कमी नहीं है लेकिन आपको ऐसे स्पेशलाइजेशन का विकल्प चुनने का उद्देश्य और प्रेरणा के बारे में स्पष्ट होने की जरूरत है l इसके अलावा, इस बात का भी विश्लेषण करें कि आपने जिस कॉलेज का चयन किया है वह अपने शिक्षकों, इंडस्ट्री कनेक्ट, इंडस्ट्री के सब– सेक्टर में प्लेसमेंट ऑफर की रेंज, जिसमें बड़े राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय ब्रांड शामिल हैं तथा ऐसी ही अन्य बातों के मामले में आपकी आवश्यकताओं के अनुसार है या नहीं l

Add Comment